30 Bigha Wheat Ashes Due To Fire In Kalvari Region – कलवारी क्षेत्र में आग लगने से 30 बीघा गेहूं राख


पाऊं में आग से जलाशय की फसल, आग बुझाते ग्रामीण।

पाऊं में आग से जलाशय की फसल, आग बुझाते ग्रामीण।
– फोटो: BASTI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनना

कलवारी क्षेत्र में आग लगने से 30 बीघाट जलाशय
गायघाट। कलवारी थाना क्षेत्र के पाऊं गांव में बिजली के शॉर्ट-सर्किट से आग लगने के कारण 30 बीघाट जलकर राख हो गए। जांच में पहुंची राजस्व टीम ने नुकसान का आकलन किया।
मंगलवार को सुबह साढ़े नौ बजे कलवारी थाना क्षेत्र के पाऊं गांव के रवींद्र नाथ दूबे के गेहूं के खेत में हाई वोल्टेज (बदला हजार वोल्टेज) का तार टूटकर गिर गया। दो तार आपस में टकरा जाने के कारण आग लग गई। मंगलवार को चल रही तेज पछुआ हवा के कारण कुछ ही देर में आग चारों ओर फैल गई। आसपास खेत में काम कर रहे मजदूरों ने आग देखकर शोर मचाया। शोर सुनकर क्षेत्र के लोग खेत की तरफ दौड़े। लाठी-डंडों से पीट आग को बुझाने का प्रयास किया। हालांकि सफल नहीं हुआ। कुछ लोगों ने ट्रनों से खेत की जुताई कर दूसरे खेत में आग पहुंचने से रोकने का प्रयास किया।
आग से गेहूं की फसल के अलावा आम के बाग और अन्य पेड़ भी जल गए। स्थानीय ग्रामीण और पुलिस के प्रयास से आग पर काबू पाया गया। डेढ़ घंटे बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंची, तब तक आग पर काबू पाया जा चुका था। लेखपाल संतोष कुमार सिंह ने जली फसल की जानकारी ली। बताया कि रवींद्र नाथ दूबे, विजय प्रकाश, काशीनाथ, कृष्ण चंद्र, भगवती प्रसाद, पुष्पांजलि, धर्मेंद्र नाथ, रवेंद्र नाथ, बंशीधर, लवकुश, विजय प्रकाश, सत्य प्रकाश, दुर्गा प्रसाद, कमलानयन, राजीव नयन, दिनेश चंद्र, कृष्ण चंद्र, उर्मिला, उर्मिला , विद्या, सत्येंद्र मोहन, धीरेंद्र मोहन, राजीव नयन, कमल नयन, शशांक शेखर की करीब 30 बीघाट की फसल जल चुकी हैं। फसल जलने से लगभग तीन लाख रुपये का नुकसान हुआ है, जिसकी रिपोर्ट तहसील में भेज दी गई है।

कलवारी क्षेत्र में आग लगने से 30 बीघाट जलाशय

गायघाट। कलवारी थाना क्षेत्र के पाऊं गांव में बिजली के शॉर्ट-सर्किट से आग लगने के कारण 30 बीघाट जलकर राख हो गए। जांच में पहुंची राजस्व टीम ने नुकसान का आकलन किया।

मंगलवार को सुबह साढ़े नौ बजे कलवारी थाना क्षेत्र के पाऊं गांव के रवींद्र नाथ दूबे के गेहूं के खेत में हाई वोल्टेज (बदला हजार वोल्टेज) का तार टूटकर गिर गया। दो तार आपस में टकरा जाने के कारण आग लग गई। मंगलवार को चल रही तेज पछुआ हवा के कारण कुछ ही देर में आग चारों ओर फैल गई। आसपास खेत में काम कर रहे मजदूरों ने आग देखकर शोर मचाया। शोर सुनकर क्षेत्र के लोग खेत की तरफ दौड़े। लाठी-डंडों से पीट आग को बुझाने का प्रयास किया। हालांकि सफल नहीं हुआ। कुछ लोगों ने ट्रनों से खेत की जुताई कर दूसरे खेत में आग पहुंचने से रोकने का प्रयास किया।

आग से गेहूं की फसल के अलावा आम के बाग और अन्य पेड़ भी जल गए। स्थानीय ग्रामीण और पुलिस के प्रयास से आग पर काबू पाया गया। डेढ़ घंटे बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंची, तब तक आग पर काबू पाया जा चुका था। लेखपाल संतोष कुमार सिंह ने जली फसल की जानकारी ली। बताया कि रवींद्र नाथ दूबे, विजय प्रकाश, काशीनाथ, कृष्ण चंद्र, भगवती प्रसाद, पुष्पांजलि, धर्मेंद्र नाथ, रवेंद्र नाथ, बंशीधर, लवकुश, विजय प्रकाश, सत्य प्रकाश, दुर्गा प्रसाद, कमलानयन, राजीव नयन, दिनेश चंद्र, कृष्ण चंद्र, उर्मिला, उर्मिला , विद्या, सत्येंद्र मोहन, धीरेंद्र मोहन, राजीव नयन, कमल नयन, शशांक शेखर की करीब 30 बीघाट की फसल जल चुकी हैं। फसल जलने से लगभग तीन लाख रुपये का नुकसान हुआ है, जिसकी रिपोर्ट तहसील में भेज दी गई है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

User~Online 30
Sitemap | AdSense Approvel Policy|