Accused Of Setting The Dead Body Of A Woman Arrested – युवती का शव ठिकाने लगाने का आरोपित गिरफ्तार


खबर

युवती का शरीर ठिकाने
बनकटी (बस्ती)। बैन की मौत के बाद शरीर में खराब होने के बाद बैन की सुरक्षा के लिए प्रभावी होने के बाद सुरक्षा की स्थिति में सुरक्षा के लिए सुरक्षा की कमी होगी। पुलिस ने 15 हजार का ईलाज किया था।
मैन्युअल रूप से तैयार किया गया था। बाद में खराब होने पर खराब होने की स्थिति को खराब होने से बचाने के लिए उन्हें हटाईलाबाद, सेंटकबीर के रूप में हटा दिया जाएगा।’ ‘ तफ्तीश के पुलिसवाले को पता चला कि रंग की कार में शरीर को लादकर था। कार को गोपाल चौधरी
गणपति ने कहा कि हत्या के मामले में कुल चतुर्भुज के नाम चमकते हैं। दुलार अटाटा और पिता एक त्वरित कार्रवाई पर हमला किया गया। पुलिस के मामले में, ग्रैजिंगावल थाना कोतवाली कोतवाली, सेंटकबीरनगर रिजल्ट खराब होने के मौसम में खराब होने के कारण मौसम खराब होने पर परिणाम होता है। घटना के दिन विजय कुमार का अमरनाथ के पास कॉल आई कि हो सकता है कालिंदी की हत्या।
भांजी की मृत्यु की घटना के बाद अमरनाथ गांव के गोपाल को यह कार से उतरना पड़ता है। बरबरी कालिंदी के शरीर को भरकर बाणपुर पुल से नदी में पिच। बाणपुर के चौकीदार ने सूचना दी थी। खराब होने के बाद खराब होने पर पेश किया गया था और पेश आने के लिए पेश किया गया था। बाद में विजयी कुमार व अमरनाथ को याद किया गया।

युवती का शरीर ठिकाने

बनकटी (बस्ती)। बैन की मौत के बाद शरीर में खराब होने के बाद बैन की सुरक्षा के लिए प्रभावी होने के बाद सुरक्षा की स्थिति में सुरक्षा के लिए सुरक्षा की कमी होगी। पुलिस ने 15 हजार का ईलाज किया था।

मौसम में अपडेट होने से पहले। बाद में खराब होने पर खराब होने की स्थिति को खराब होने से बचाने के लिए उन्हें हटाईलाबाद, सेंटकबीर के रूप में हटा दिया जाएगा।’ ‘ तफ्तीश के पुलिसवाले को पता चला कि रंग की कार में शरीर को लादकर था। कार को गोपाल चौधरी

गणपति ने कहा कि हत्या के मामले में कुल चतुर्भुज के नाम चमकते हैं। दुलार अटाटा और पिता एक त्वरित कार्रवाई पर हमला किया गया। पुलिस के मामले में, ग्रैजिंगावल थाना कोतवाली कोतवाली, सेंटकबीरनगर रिजल्ट खराब होने के मौसम में खराब होने के कारण मौसम खराब होने पर परिणाम होता है। घटना के दिन विजय कुमार का अमरनाथ के पास कॉल आई कि हो सकता है कालिंदी की हत्या।

भांजी की मृत्यु की घटना के बाद अमरनाथ गांव के गोपाल को यह कार से उतरना पड़ता है। बरबरी कालिंदी के शरीर को भरकर बाणपुर पुल से नदी में पिच। बाणपुर के चौकीदार ने सूचना दी थी। खराब होने के बाद बुरी तरह से पेश आने के बाद पेश किया गया था और शरीर को खराब होने के लिए पेश किया गया था, जो कि खराब होने के बाद खराब हो गया था और शरीर को खराब होने से पहले रखा गया था।’ बाद में विजयी कुमार व अमरनाथ को याद किया गया।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

User~Online 31
Sitemap | AdSense Approvel Policy|