Dm Annoyed Due To Negligence In Barricading 71 Containment Zone In The District – जिले में 71 कंटेनमेंट जोन, बैरिकेडिंग में लापरवाही से डीएम नाराज


ख़बर सुनना

जिले में 71 वांमेंट जोन, बैरिकेडिंग में लापरवाही से डीएम नाराज
बत्तीसी। जिले में कोविभाजन तेजी से फैल रहा है। मंगलवार तक जिले में 71 वांमेन जोन बन चुके हैं। आश्रम जोन के मानक के अनुसार 2154 घरों में रह रहे 14046 लोग संक्रमण के खतरे की जद में हैं। इसके बाद भी स्थानीय प्रशासन की ओर से उनकी सुरक्षा में लापरवाही की दिख रही है। इस पर डीएम ने नाराजगी जाहिर की है।
बैठक में डीएम सौम्या अग्रवाल ने दुबौलिया, मरफ्तिया, सांऊघाट में बने गिलमेन जोन में तत्काल बैरीकेडिंग प्रदान के साथ सैनिटाइजेशन कराने के लिए कहा है। वहीं, बस्ती सदर, विक्रमजोत और बनकट ब्लॉक क्षेत्र में सक्रियता बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। एकीकृत और नियंत्रक केंद्र में कोविद -19 की समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल ने कहा कि संरक्षण जोन में सभी प्रकार के वफादार उपाय किए जाएं। कोरोनावायरस से प्रभावित रोगी के आस-पास लगभग 25 लोगों की को विभाजित जांच अनिवार्य रूप से की जाएगी। साथ ही 45 साल के ऊपर के सभी लोगों को कोरोना का टीका लगाया जाएगा। टीकाकरण की कार्ययोजना तैयार करने के लिए कहा।
साथ ही लक्ष्य निर्धारित करने और नियमित रूप से प्रदर्शित होने की हिदायत दी। इसमें लापरवाही पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी गई। डीएम ने आपूर्ति विभाग को निर्देशित किया है कि कोटेदारों के माध्यम से लोगों को प्रेरित करके स्वास्थ्य केंद्र पर टीकाकरण के लिए लोगों को खुश किया जाए।
बैठक में सीडीओ डाॅ। राजेश प्रजापति, सीएमओ डॉ। अनूप कुमार, जेई मजिस्ट्रेट नंद किशोर कलाल, एसीएमओ डॉ। सीके वर्मा, डॉ। फखरेयार हुसैन, डॉ। अजीत कुमार कुशवाहा, उपजिलाधिकारी आशाराम वर्मा, नीरज प्रसाद पटेल, आनंद श्रीनेत, कृषि अधिकारी संजेश श्रीवास्तव, जिला पूर्ति अधिकारी रमन मिश्र, पीडीएफ कमलेश सोनी और सभी खंड विकास अधिकारी और प्रभारी चिकित्साधिकारी उपस्थित रहे।
डीएम ने बताया कि बाहर से आने वाले पचास फीसदी लोगों की सैंपलिंग कराई गई है। 1600 के सापेक्ष 1156 एंटीजन, 1600 के सापेक्ष 1160 आरटीपीसीआर की जांच की गई है। ऑफ़लाइन 1600 के सापेक्ष 1600 एंटीजन और 1302 आरटीपीसीआर जांच भी हुई है। सात से 12 अप्रैल के बीच 251 नए मरीज मिले हैं। इस जांच में तेजी लाई जाए। डीएम ने कोरोना मरीज के कांटेक्ट ट्रेसिंग, उनकी जांच और इलाज की भी समीक्षा की। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के सीएमएस डॉ। जीएम शुक्ला को निर्देशित किया गया कि उनके अस्पताल में भर्ती शुगर के मरीज को इसके अनुसार नाश्ता और भोजन उपलब्ध कराएं, साथ ही स्वयं भी वहां की व्यवस्थाओं की अनदेखी कर रहें।

जिले में 71 वांमेंट जोन, बैरिकेडिंग में लापरवाही से डीएम नाराज

बत्तीसी। जिले में कोविभाजन तेजी से फैल रहा है। मंगलवार तक जिले में 71 वांमेन जोन बन चुके हैं। साधुओं जोन के मानक के अनुसार 2154 घरों में रहना 14046 लोग संक्रमण के खतरे की जद में हैं। इसके बाद भी स्थानीय प्रशासन की ओर से उनकी सुरक्षा में लापरवाही की दिख रही है। इस पर डीएम ने नाराजगी जाहिर की है।

बैठक में डीएम सौम्या अग्रवाल ने दुबौलिया, मरकतिया, सांऊघाट में बने गिलमेन जोन में तत्काल बैरीकेडिंग प्रदान के साथ सैनिटाइजेशन कराने के लिए कहा है। वहीं, बस्ती सदर, विक्रमजोत और बनकट ब्लॉक क्षेत्र में सक्रियता बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। एकीकृत और नियंत्रक केंद्र में कोविद -19 की समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल ने कहा कि संरक्षण जोन में सभी प्रकार के वफादार उपाय किए जाएं। कोरोनावायरस से प्रभावित रोगी के आस-पास लगभग 25 लोगों की को विभाजित जांच अनिवार्य रूप से कराई जाएगी। साथ ही 45 साल के ऊपर के सभी लोगों को कोरोना का टीका लगाया जाएगा। टीकाकरण की कार्ययोजना तैयार करने के लिए कहा।

साथ ही लक्ष्य निर्धारित करने और नियमित रूप से प्रदर्शित होने की हिदायत दी। इसमें लापरवाही पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी गई। डीएम ने आपूर्ति विभाग को निर्देशित किया है कि कोटेदारों के माध्यम से लोगों को प्रेरित करके स्वास्थ्य केंद्र पर टीकाकरण के लिए लोगों को खुश किया जाए।

बैठक में सीडीओ डाॅ। राजेश प्रजापति, सीएमओ डॉ। अनूप कुमार, जेई मजिस्ट्रेट नंद किशोर कलाल, एसीएमओ डॉ। सीके वर्मा, डॉ। फखरेयार हुसैन, डॉ। अजीत कुमार कुशवाहा, उपजिलाधिकारी आशाराम वर्मा, नीरज प्रसाद पटेल, आनंद श्रीनेत, कृषि अधिकारी संजेश श्रीवास्तव, जिला पूर्ति अधिकारी रमन मिश्र, पीडीएफ कमलेश सोनी और सभी खंड विकास अधिकारी और प्रभारी चिकित्साधिकारी उपस्थित रहे।

डीएम ने बताया कि बाहर से आने वाले पचास फीसदी लोगों की सैंपलिंग कराई गई है। 1600 के सापेक्ष 1156 एंटीजन, 1600 के सापेक्ष 1160 आरटीपीसीआर की जांच की गई है। ऑफ़लाइन 1600 के सापेक्ष 1600 एंटीजन और 1302 आरटीपीसीआर जांच भी हुई है। सात से 12 अप्रैल के बीच 251 नए मरीज मिले हैं। इस जांच में तेजी लाई जाए। डीएम ने कोरोना मरीज के कांटेक्ट ट्रेसिंग, उनकी जांच और इलाज की भी समीक्षा की। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के सीएमएस डॉ। जीएम शुक्ला को निर्देशित किया गया कि उनके अस्पताल में भर्ती शुगर के मरीज को इसके अनुसार नाश्ता और भोजन उपलब्ध कराएं, साथ ही स्वयं भी वहां की व्यवस्थाओं की अनदेखी कर रहें।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

User~Online 39
Sitemap | AdSense Approvel Policy|