Teachers Organization Staged Jd Office – शिक्षक संगठन ने जेडी कार्यालय पर दिया धरना


उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ने संयुक्त शिक्षा निदेशक मनोज कुमार द्विवेदी को सौंपा।

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ने संयुक्त शिक्षा निदेशक मनोज कुमार द्विवेदी को सौंपा।
– फोटो: BASTI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनना

शिक्षक संगठन ने जेडी कार्यालय पर धरना दिया
बत्तीसी। शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक -2021 वापस लेने की मांग करते हुए उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ने संयुक्त शिक्षा निदेशक कार्यालय पर सांकेतिक सभा दी। इस दौरान छह मांगों का ज्ञापन संयुक्त शिक्षा निदेशक को सौंपा गया।
इस दौरान पूर्व एमएलसी व प्रदेश अध्यक्ष चेत नरायन सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार शिक्षक हितों की अनदेखी कर रही है। हमारे पास संघर्ष के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं है। शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक -2021 शिक्षक नीतियों को प्रभावित करेगा, इसे तत्काल वापस लिया जाएगा। संघ के मंडलीय अध्यक्ष राम पूजन सिंह ने कहा कि नई पेंशन योजना के अभिदाता अंश, नियोक्ता अंश और तत्संबंधी ब्याज का अद्यतन भुगतान सुनिश्चित किया जाए और केंद्रीय अतिरिक्त चार प्रतिशत अनुदान को केंद्रीय कर्मचारियों की भांति प्रदेश के शिक्षकों व कर्मचारियों को भी थॉमस सीमा मुक्त किया जाए। रख लिया। मंडलीय मंत्री संजय द्विवेदी ने कहा कि सरकार नौ मार्च 2019 को हुई वार्ता के सहमति बिंदुओं से मुकर रही है। अध्यापकों के विनियमितीकरण अवधि में राजनीति की जा रही है।
इस मौके पर प्रांतीय उपाध्यक्ष मार्कंडेय सिंह, नरेंद्र सिंह, अजय प्रताप सिंह, अरुण कुमार मिश्रा, मोहिबुल्लाह खान, अब्दुल वाहिद, जय चंद यादव, अभय शंकर शुक्ला, गिरिजानंद यादव, गुलाब चंद मौर्य, हरिकेश यादव, अशोक मिश्रा, अशोक मिश्रा, श्याम करण भारती, महेश राम, फागू लाल गुप्ता, आफताब आलम, जय प्रकाश मिश्रा, जितेंद कुमार, राजेश चौधरी, अजीत पाल, राजधारी पाल आदि मौजूद रहे।

शिक्षक संगठन ने जेडी कार्यालय पर धरना दिया

बत्तीसी। शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक -2021 वापस लेने की मांग करते हुए उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ने संयुक्त शिक्षा निदेशक कार्यालय पर सांकेतिक सभा दी। इस दौरान छह मांगों का ज्ञापन संयुक्त शिक्षा निदेशक को सौंपा गया।

इस दौरान पूर्व एमएलसी व प्रदेश अध्यक्ष चेत नरायन सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार शिक्षक हितों की अनदेखी कर रही है। हमारे पास संघर्ष के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं है। शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक -2021 शिक्षक नीतियों को प्रभावित करेगा, इसे तत्काल वापस लिया जाएगा। संघ के मंडलीय अध्यक्ष राम पूजन सिंह ने कहा कि नई पेंशन योजना के अभिदाता अंश, नियोक्ता अंश और तत्संबंधी ब्याज का अद्यतन भुगतान सुनिश्चित किया जाए और केंद्रीय अतिरिक्त चार प्रतिशत अनुदान को केंद्रीय कर्मचारियों की भांति प्रदेश के शिक्षकों व कर्मचारियों को भी थॉमस सीमा मुक्त किया जाए। रख लिया। मंडलीय मंत्री संजय द्विवेदी ने कहा कि सरकार नौ मार्च 2019 को हुई वार्ता के सहमति बिंदुओं से मुकर रही है। अध्यापकों के विनियमितीकरण अवधि में राजनीति की जा रही है।

इस मौके पर प्रांतीय उपाध्यक्ष मार्कंडेय सिंह, नरेंद्र सिंह, अजय प्रताप सिंह, अरुण कुमार मिश्रा, मोहिबुल्लाह खान, अब्दुल वाहिद, जय चंद यादव, अभय शंकर शुक्ला, गिरिजानंद यादव, गुलाब चंद मौर्या, हरिकेश यादव, अशोक मिश्रा, अशोक मिश्रा, श्याम करण भारती, महेश राम, फागू लाल गुप्ता, आफताब आलम, जय प्रकाश मिश्रा, जितेंद कुमार, राजेश चौधरी, अजीत पाल, राजधारी पाल आदि मौजूद रहे।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

User~Online 40
Sitemap | AdSense Approvel Policy|